Friday, 27 March 2015

परम कृपा परम रे भाई ॥



परम की कृपा परम रे भाई ॥ 

परम गुरु का सुमिरन कर के
   भव- सागर तर जाई |
 परम की कृपा परम रे भाई ॥

रूप अनूप गुरु अपने प्यारे 
  प्रेम की ज्योत जलाई | 
परम की कृपा परम रे भाई ॥

वाणी जिनकी अमृत कीधारा 
 निश दिन हमें पिलाई | 
परम की कृपा परम रे भाई ॥

जीवन गुरु बिना खंडहर है 
 खंडहर में फूल खिलाई | 
परम की कृपा परम रे भाई ॥

"श्रीराम"गुरु परम भक्ति दो 
  सुध बुध जग बिसराई   | 
परम की कृपा परम रे भाई ॥ 

No comments:

Post a Comment